Pages

RSS

Sunday, August 1, 2010

इंतज़ार की घड़ियाँ


देख कर हमें वो प्यार से थे मुस्कुराए,
ये वहम था हमारा या उनकी अदाएँ!!

खुशबु से महकी थी रंगीन बगिया,
फूल ही थे यें या थी भवरों की सदाएँ!!

आह! ये कैसी हुई आहट!
वो आ गए है या ये उनके आने की है चाहत!!

आया है सीली सी हवा का झोंका,
बरसा है कहीं बादल या है ये आंसू भरी दुआएँ!!

Image courtesy - Image is a result of googling.

20 comments:

ana said...

bahut sundar kavita......

maneesha said...

the moments of wait expressed nicely.

Nisha said...

@Ana & Maneesha - Thankyou ana and a lot of thanks to you too ma'am.

S.M.HABIB said...

सुन्दर रचना, बधाई.

संजय भास्कर said...

कुछ तो है इस कविता में, जो मन को छू गयी।

संजय भास्कर said...

बहुत दिनों बाद आपके ब्लॉग पार आना हुआ

nilesh mathur said...

वाह! क्या बात है, बहुत सुन्दर !
www.mathurnilesh.blogspot.com

आशीष/ ASHISH said...

अच्छा लिखा है आपने!
कमाल है... कुछ ऐसा ही मेरे ब्लॉग पर भी!
दूर किसी के पास,
मेरे माज़ी की परछाई है!
छू के देखो ज़रा,
फिर से सीली सी हवा आयी है!

Virendra Singh Chauhan said...

Good post.

Nisha said...

@sanjay bhaskar, nilesh mathur & virendra singh chauhan - thanks a lot to all of you for the appreciation.

@Aashish - thanku very much.. and read your blog and the same lines you talked about.. You are a good writer.

All of you plz Keep visiting.

Iosif said...

Express yourself very nice and great blog!
We will read with pleasure!
Hello everyone!

अनिल कान्त : said...

behad khoobsurat

Iosif said...

हम अपने ब्लॉग के लिए एक यात्रा पर गया है! नमस्ते और मुझे उम्मीद!

Babli said...

आपकी टिपण्णी के लिए बहुत बहुत शुक्रिया!
बहुत सुन्दर रचना लिखा है आपने जो काबिले तारीफ़ है! तस्वीर बहुत अच्छी लगी! उम्दा प्रस्तुती!

Shekhar Suman said...

bahut hi khubsurat rachna.....
umdaah prastuti...
mere blog par is baar..
पगली है बदली....
http://i555.blogspot.com/

Babli said...

रक्षाबंधन पर हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें!

Nisha said...

Thanks a lot Iosif, Anil Kant, Babli and Shekhar Suman.

aap sabhi ko bhi raksha bandhan ki dheron shubhkaamnaaye.

A said...

wow

Manish said...

bahut hi pyare bhav....

Sulbha said...

Wow.. emotions expressed beautifully