Pages

RSS

Wednesday, April 21, 2010

Nisha (Night)

A ray of hope, a ray of light
sometimes dark, sometimes bright
just like a good friend
though far, always with light
saying the sun to take rest
and rise again with its best
making the moon shining with more light
says stars just for you we are bright
morning comes saying
have a nice journey
and come soon for me as I for you
and it goes with long strides
evening.. comes, for its welcome
and then again
a ray of hope, a ray of light

ओ तेज ठंडी हवा

ओ तेज ठंडी हवा
खनखनाती है मेरी विंड चाईम
सुहाती है मुझे
आ थोड़ा और पास आ

ओ तेज ठंडी हवा
लाती है बूंदों भरे बादल
भिगाती है मुझे
आ थोड़ा और पास आ

ओ तेज ठंडी हवा
आती है धूल से भर कर
सताती है मुझे
रुक, थोड़ा ठहर जा

ओ तेज ठंडी हवा
गुनगुनाता है दूर कोई प्यार के गीत
सुनाती है मुझे
आ थोड़ा फिर पास आ
थोड़ा.. और पास आ